sukanya samriddhi yojana calculator in excel
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

sukanya samriddhi yojana calculator in excel सरकार ने छोटी बचत स्‍कीमों की ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। वित्त वर्ष 2024-25 की पहली तिमाही यानी 30 जून, 2024 तक ब्याज दरें जस की तस रहेंगी। वित्त मंत्रालय ने 8 मार्च, 2024 को एक सर्कुलर जारी करके यह जानकारी दी है। इस फैसले का मतलब यह है कि सुकन्‍या समृद्धि, पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF), सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (SCSS) समेत छोटी बचत स्‍कीमों की ब्‍याज दरों पर पहले जितना ब्‍याज मिलता रहेगा। सरकार हर तिमाही में छोटी बचत स्‍कीमों पर ब्‍याज दरें तय करती है।

नए सर्कुलर के मुताबिक, ‘वित्त वर्ष 2024-25 की पहली तिमाही यानी 1 अप्रैल, 2024 से 30 जून, 2024 तक तमाम छोटी बचत स्‍कीमों पर ब्याज की दरें वित्त वर्ष 2023-24 की चौथी तिमाही (1 जनवरी, 2024 से 31 मार्च, 2024) के लिए अधिसूचित दरों के समान रहेंगी।’ आइए, अब जानते हैं अलग-अलग छोटी बचत स्‍कीमों पर ब्‍याज दरें कितनी हैं: sukanya samriddhi yojana calculator in excel

sukanya samriddhi yojana calculator in excel

👉अभि उठाये योजना का लाभ👈

रिकरिंग डिपॉजिट

पहले बात करते हैं रिकरिंग डिपॉजिट (RD) की। छोटे निवेशकों के लिए बनाई गई इस स्‍कीम में आपको 6.7% सालाना ब्याज मिलेगा। खास बात यह है कि इसमें आप कम से कम 100 रुपये जमा कर सकते हैं। यानी कम पैसे में भी बचत का मौका!

टाइम डिपॉजिट

इसमें आपको एक साल, दो साल, तीन साल और पांच साल के हिसाब से ब्याज मिलता है। कम से कम 1,000 रुपये जमा करने होते हैं। हां, एक और जरूरी बात – पांच साल वाले खाते पर आपको इनकम टैक्स की धारा 80C के तहत टैक्स में छूट भी मिलती है। sukanya samriddhi yojana calculator in excel

  • एक साल के लिए 6.9% ब्याज
  • दो साल के लिए 7.0% ब्याज
  • तीन साल के लिए 7.1% ब्याज
  • पांच साल के लिए 7.5% ब्याज

ये भी देखे : यूनियन बैंक पर्सनल लोन

पीपीएफ

अब बात करते हैं पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) की। इसमें आप हर साल कम से कम 500 रुपये और ज्‍यादा से ज्‍यादा 1.5 लाख रुपये जमा कर सकते हैं। इस पर आपको 7.1% सालाना ब्याज मिलेगा। PPF में निवेश करने पर भी आपको इनकम टैक्स में छूट मिलती है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम

sukanya samriddhi yojana calculator in excel बुजुर्गों के लिए सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS) एक बेहतरीन विकल्प है। इसमें 8.2% सालाना ब्याज मिलता है। कम से कम 1,000 रुपये और ज्‍यादा से ज्‍यादा 30 लाख रुपये जमा कर सकते हैं। हां, एक बात का ध्यान रखें – अगर ब्याज 50,000 रुपये से ज्‍यादा हुआ तो उस पर टैक्स देना होगा।

👉जाणे पुरी जानकारी👈

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम

अगर आप हर महीने एक तय रकम चाहते हैं तो पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (POMIS) आपके लिए है। इसमें आपको 7.4% सालाना ब्याज मिलता है। sukanya samriddhi yojana calculator in excel कम से कम 1,000 रुपये से खाता खुलवा सकते हैं। अगर अकेले खाता खुलवा रहे हैं तो ज्‍यादा से ज्‍यादा 9 लाख रुपये और दोनों लोग मिलकर खुलवा रहे हैं तो 15 लाख रुपये जमा कर सकते हैं।

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) पांच साल के लिए होता है। इस पर आपको 7.7% सालाना ब्याज मिलता है। कम से कम 1,000 रुपये जमा करने होते हैं। इसमें कोई ऊपरी सीमा नहीं है। NSC में निवेश करने पर भी आपको इनकम टैक्स में छूट मिलती है।

ये भी देखे : मिलेगा 25000 का तुरंत लोन

किसान विकास पत्र

किसान विकास पत्र (KVP) में निवेश करने पर आपका पैसा लगभग 9 साल 7 महीने में दोगुना हो जाता है। इस पर आपको 7.5% सालाना ब्याज मिलता है। sukanya samriddhi yojana calculator in excel

महिला सम्मान बचत प्रमाण पत्र

महिला सम्मान बचत प्रमाण पत्र महिलाओं और बच्चियों के लिए एक खास योजना है। इसमें आपको 7.5% सालाना ब्याज मिलता है। यह योजना महिलाओं और बच्चियों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने में मदद करती है।

ये भी देखे : स्लाइस ॲपपर पये 80 हजार तक लोन

सुकन्या समृद्धि योजना

sukanya samriddhi yojana calculator in excel बेटियों के भविष्य को सुरक्षित बनाने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) एक बेहतरीन योजना है। इसमें आपको 8.2% सालाना ब्याज मिलता है। बेटी के 10 साल का होने से पहले यह खाता खुलवाया जा सकता है। इसमें आप कम से कम 250 रुपये और ज्‍यादा से ज्‍यादा 1.5 लाख रुपये हर साल जमा कर सकते हैं।


Discover more from

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Discover more from

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading